पाँचवा कदम (द्वपक्षीय) किसान आंदोलन समाधान

सुनो सुनो ऐ मेरे साथियो
एक कहानी सुन लो आप यहाँ
आपके भविष्य की हैं कहानी
आमदनी लो आप नगद यहाँ।।

लाखो रोजगार दिखेगे इसमे
लाखो
नोकरिया दिखेगी
इसमे यहाँ
बंजर जमीने सोना उगलेगी
सम्भाल ना पाओगे आप यहाँ।।01

आज विकल्प माँग रहे आपसे
कोई विकल्प तो हमको दो यहाँ
किसान की आमदनी करनी है दुगनी
तभी बिल लाए है वो यहाँ।।

दे सकते हो आप विकल्प
जो कृषि मंत्री हमारे है यहाँ
किसान की आमदनी
कैसे होगी दुगनी
दिखला सकते हो उन्हें यहाँ।।02

फाटक to फाटक बोगी चलाओ
परिवहन,विकल्प एक रखो यहाँ
बोगी से फसले,प्राणी सँग जाएगी
पहुचेगी,शहर to ग्राम,ग्राम यहाँ।।

फसले कटेगी,फाटक पहुचेगी
फाटक से बोगी में
चढ़ेगी तभी वहाँ
समय से पहले पहुचेगी मंडी
धन सँग समय बचेगा आपका यहाँ।।03

माना बोगी ना जा सके है मंडी
पर मंडी तो आ सके वहाँ
दूर से पटरियां दिखे
जहाँ पर
मंडी तो बन सके वहाँ।।

समय बचेगा बहुत आपका
समय भी धन का रूप यहाँ
धन भी बचेगा नगद आपका
भाड़ा लगेगा कम वहाँ।।04

दो परिवर्तन सिर्फ देश मे करने
हैं धरती पुत्रो सुनो यहाँ
अब फायदे सुनलो
आप दोनो के
फिर निर्णय करना आप यहाँ।।

फाटक to फाटक देश जुड़ा है
जुड़ेगा,देश से देश खुद यहाँ
हर पल साधन मिलेगा सबको
बोगी,फाटक पर होगी खड़ी वहाँ।।05

हर सुविधाए जल्द पहुचे गाँवो में
आज भी सुविधाओ का हैं अभाव यहाँ
साधन सुलभ यदि मिले अगर,तो
बेवजह ना मरे प्राणी वहाँ।।

हैं भारत की वो भी सन्ताने
हैं अधिकार उनका भी धरा यहाँ
मूलभूत सुविधाओं से है वंचित वो
उन्हें अधिकार मिलेगा अपना यहाँ।।06

लाखों होटले खुलेगी गाँवो में
लाखो
नोकरिया मिलेंगी आपको यहाँ
लाखो रोजगार उत्पन्न होंगे
हर गाँव
सम्पन बनेगा तभी यहाँ।।

लागत कम हो जाएगी सबकी
जब परिवहन सस्ता होगा यहाँ
बहुत व्यापार बढेगा आपका
हर गाँव शहर बनेगा तभी यहाँ।।07

आज किसान की लागत ज्यादा
फसले परिवहन महंगी यहाँ
विकल्प मिलेगा इक परिवहन का
लागत भी आएगी कम यहाँ।।

आज व्यापारी की जीत तभी
जब लागत कम हो उसकी यहाँ
लागत कम तो उत्पाद सस्ता
निर्यात बढ़ेगा हमारा वहाँ।।08

आयात कम,निर्यात ज्यादा
रुपया चमकेगा तुरंत वहाँ
रूपया चमका,हम चमके
चमकेगी,
किस्मत राष्ट्र की तभी यहाँ।।

आज डॉलर एवरेज पिचहत्तर
पैसठ के अंदर आएगा तभी यहाँ
खुद ब खुद घट जाएगी महंगाई
जो मार इंसान को रही यहा।।09

बंजर जमीने सोना उगलेगी
कितने स्कूल,कॉलेज खुलेंगे वहाँ
साधन सुलभ अगर मीले समय पर
तो दूरी सिमटे तभी यहाँ।।

इक फसल बोनी ईकजूटता की
सब मिलकर बचाओ आप यहाँ
राष्ट्र गिर रहा,मानव मर रहा
बड़ी महंगाई,
घटे रोजगार हैं यहाँ।।10

चौमुखी विकास करे राष्ट्र का
चौमुखा विकास करे खुद का यहाँ
हर मजदूर को मिलेगी पूरी मजदूरी
किसान को MSP मिलेगी तभी यहाँ।।

अब किसान आंदोलन ही नीव रखेगा
नीव विकसित भारत की रखेगा यहाँ
विकल्प दिखलादो दुनिया को आप
बोगी स्टेशन ही हैं विकल्प यहाँ। 11

बोगी स्टेशन की माँग रखो आप
उन्हें विकल्प दे दो एक यहाँ
खुद देगे वो तीनो
बिल आपको
नफा
उनका भी है छुपा यहाँ।।

बिस से अधिक फायदे छुपे हैं
अधिकतम चालीस हो सके धरा यहाँ
सोने की चिड़िया यही बनाएगी
कोंन मौका चूक सके यहाँ।।12

सारे गहने
लगे हैं बिकने राष्ट्र के
राष्ट्र को माता कहते हम यहाँ
माँ को गहना दे दो यारो,दे दो
बोगी स्टेशन विभाग यहाँ।।

जाग्रत कर लो आज आप खुद को
बनो भगत सिंह आप यहाँ
आप को जरूरत है
आज राष्ट्र की
तो राष्ट्र को
जरूरत
आपकी हैं यहाँ।।13

पटरियां बिछी है,बोगीया खड़ी है
बिछी इलेक्ट्रिक वायर वहाँ
इलेक्ट्रिक इंजन ही सिर्फ लगाने
अपना हक,हक से माँगो आप यहाँ।।

आज संसद चल रही देश में
सम्पूर्ण विश्व की नज़रे हैं वहाँ
पकड़ो हाथो में तख्तियां,लिख दो
दिखाओ,हैं बोगी स्टेशन विकल्प यहां।।14

बड़ी आरजू थी प्रधान की हमारे
किसान की आमदनी,दुगनी करे यहाँ
आरजू पूरी कर दो उनकी,दिखाओ उन्हें
बिल से नही,ऐसे होगी आमदनी दुगनी यहाँ।।

ओर यह ना सोचना कोरी कल्पना
यह साकार ना हो सके कभी यहाँ
उद्योपतियों के लिए कॉरिडोर
बन सकता हैं तो,
गरीबो के लिए भी
बोगी स्टेशन बन सके यहाँ।।15

21 में नही तो 24 में होगी
पर घोषणा होगी जरूर यहाँ
बोगी स्टेशन ही हैं विकल्प अंतिम
आमदनी दुगनी कराएगा सबकी यहाँ।।

समस्या तब तक ही रहे समस्या
जब तक समाधान ना दिखे यहाँ
आज समाधान दिखला दिया आपको
इस से बेहतर
कोई ओर नही हैं विकल्प यहाँ।।16

कसम खाओ ना हटोगे पीछे
खुबिया गिनाओगे इसकी यहाँ
राष्ट्र का भला छुपा इसी में
मानव का हित छुपा इसमे यहाँ।।

oजुम्मे रात की है यह कहानी
देती सत्य का सदा है साथ यहाँ
सत्य मेव सदा जयते हैं धरा
सदा,जयते ही रहेंगे धरा यहाँ।17

ThenkS माँ ThenkS

अब देखेगी

दुनिया तमाशा

खेल दिखाएंगे हम वहाँ

2 जुलाई बाद जाएगे दिल्ली

राजधानी कहते जिसे यहाँ।।

द्रष्टि रखना अपनी माता

द्रष्टि देवी रखेगी अपनी वहाँ

जीवन सार्थक हमे हैं करना

अनुमति मिल चुकी हमे यहाँ।।

दिए स्वप्न में दर्शन आपने

हमारी मन्नत पूरी हुई यहाँ

खुद की नज़रो जीवित हुए हम

खुद की नज़रो ही थे गिरे हुए यहाँ।।

बहुत उपकार किया माता आपने

पुनर्जन्म हमे हैं दिया यहाँ

जीवन सफल

अब होगा हमारा

अपने लक्ष्य भेदेगें हम यहाँ।।

नतमस्तक हैं हम दिल से आज

कसम देवी की खाते यहाँ

बहुत प्रसन्न मन

प्रफुल्लित हमारा

लिखित शब्दो वर्णन कर रहे यहाँ।।

प्राण दान दिया हमे आपने

माफ आपने हमे किया यहॉ

ओर द्रष्टि रख रहे

आप स्वर्ग से

इसका भी प्रमाण दिया यहॉ।।

कसम आपकी कोख की खाते

इक दिन गर्वित करेगे आपको यहाँ

देख स्वर्ग से मुस्काना आप

राष्ट्रीय कर्ज उतारेंगे

हम यहॉ।।

फिट दिमाग मे गणित हमारे

इंतजार अनुमति का था यहॉ

माँ वैष्णो देवी का लेंगे आश्रीवाद

फिर जंग लड़ेंगे हम यहाँ।।

बहुत बहुत धन्यवाद माँ

आप बहुत अच्छे थे,

बहुत अच्छे हो

बहुत अच्छे रहोगे।।

ThenkS

रामायण

रामायण…‘रा’ का अर्थ है प्रकाश, ‘मा’ का अर्थ है मेरे भीतर, यानी रामा का अर्थ है मेरे भीतर का प्रकाश। दशरथ और कौसल्या ने राम का जन्म दिया। दशरथ का अर्थ है 10 रथ। दस रथ 5 इन्द्रिय अंगों (ज्ञानेंद्रिय) और 5 क्रिया अंगों (कर्मेन्द्रिय) के प्रतीक हैं। कौशल्या का अर्थ है कौशल। 10 रथों […]

रामायण

रामायण…
‘रा’ का अर्थ है प्रकाश, ‘मा’ का अर्थ है मेरे भीतर, यानी रामा का अर्थ है मेरे भीतर का प्रकाश। दशरथ और कौसल्या ने राम का जन्म दिया। दशरथ का अर्थ है 10 रथ। दस रथ 5 इन्द्रिय अंगों (ज्ञानेंद्रिय) और 5 क्रिया अंगों (कर्मेन्द्रिय) के प्रतीक हैं। कौशल्या का अर्थ है कौशल। 10 रथों का कुशल सवार राम को जन्म दे सकता है। राम का जन्म अयोध्या में हुआ था। अयोध्या का मतलब एक ऐसी जगह है जहां कोई युद्ध नहीं हो सकता है। जब हमारे मन में कोई संघर्ष नहीं है, तो चमक आरंभ हो सकती है।
रामायण का एक दार्शनिक,आध्यात्मिक महत्व और एक गहरा सत्य है।कहा जाता है कि रामायण हमारे ही अंदर हो रही है। हमारी आत्मा राम है, हमारा मन सीता है। हमारी सांस या जीवन-शक्ति हनुमान है।हमारी जागरूकता लक्ष्मण है और हमारा अहंकार रावण है। जब मन (सीता), अहंकार (रावण) द्वारा चुराया जाता है, तब आत्मा (राम) बेचैन हो जाती है।
अब आत्मा (राम) अपने आप ही मन (सीता) तक नहीं पहुँच सकती। इसे जागरूकता (लक्ष्मण) में रहकर जीवन-शक्ति (हनुमान) का सहारा लेना होगा। जीवन-शक्ति (हनुमान) और जागरूकता (लक्ष्मण) की मदद से, मन (सीता) आत्मा (राम) के साथ फिर से मिल गया, और अहंकार (रावण) मिट गया

सुर्ख चाँद,एक कहानी अहसास की

आप धन्य हैं देवी, 🙏

कलम थमाई, ब्रांड दिया, दिया जीवन को लक्ष्य यहाँ,समर्पित जीवन की हार्दिक इच्छा हमारी,राह दिखला दी हमे यहाँ।।

Create your website with WordPress.com
प्रारंभ करें