माँ, मेरी माँ पांचवा दिन

बहुत भटके बहुत तड़पे,कुछ समझ ना आए यहाँ, द्वारे पहुचे हम उनके, जिन्हें भगवान कहते है यहाँ।।पीड़ा सुनाई उन्हें अपनी,हम नाराज उनसे थे यहाँ, अत्तित की गलतियां थी हमारी,पर दोषी उन्हें माने यहाँ।।बैठ गए जाकर मन्दिर में,वो देख रहे थे हमें वहाँ, मनमोहक मुस्कान थी उनकी,निहारे हमको इकटक वहाँ।। हाथ जुड़े थे शीश झुके थे,नतमस्तक थे हम वहाँ, सारा जहाँ हम हार चुके थे,अनाथ कहलाने लगे यहाँ।।आंखों आंखे मिल रही थी उनसे,हम उन्हें वो हमें देखे वहाँ, कुछ कहना चाहते थे वो हमसे,पर हम कुछ ना समझे वहाँ।। कारण छुपा था उसमें एक,हमारे भाव लुप्त होने लगे यहाँ,पहले लगाते थे ध्यान हम,अब ध्यान ना लगाते यहाँ।। शायद यही कहना चाहते थे,पुत्र ध्यान लगाओ आप यहाँ, ध्यानी को ही वही राह दिखे,सुगमता होती जिसमे यहाँ।।फिर जाएगे हम शाम को मन्दिर,कोशिश समझने की करेगे वहाँ, जो आदेश देगे मानेंगे उसको,आदेश मनसा की माता देगी वहाँ।।

harish harplani द्वारा प्रकाशित

हमारे विचार पसन्द आपको हम भाग्यशाली बने यहाँ✍️

4 विचार “माँ, मेरी माँ पांचवा दिन&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
प्रारंभ करें
%d bloggers like this: